Friday, April 24, 2009

ये और बात है, के तारूफ ना हो सका

ये और बात है, के तारूफ ना हो सका
हम ज़िन्दगी के साथ बड़ी देर तक चले
--अज्ञात

2 comments:

  1. वाह !! क्या बात है

    ReplyDelete
  2. बहुत बढ़िया

    ReplyDelete