Thursday, August 26, 2010

हर ज़ख्म नया पुराने ज़ख्मों की गिनती घटा देता है

हर ज़ख्म नया पुराने ज़ख्मों की गिनती घटा देता है
जाने मुझे कब रखना उनके सितम का हिसाब आएगा

--अज्ञात 

2 comments:

  1. good write up...

    Visit:- http://rhymesandverses.blogspot.com/

    ReplyDelete