Monday, August 9, 2010

जैसे साँस लेते हुए महताब सी लड़की

जैसे साँस लेते हुए महताब सी लड़की
मेरे निगाह मे बसी है एक ख्वाब सी लड़की

मैं उससे फासला ना करता तो क्या करता
मैं हवओ सा पागल वो चराग़ सी लड़की

उसको सुना नही महसूस किया है मैने
हर सफे पे चुप है वो किताब सी लड़की

दरमिया हमारे हज़ार हिजाब हैं फिर भी
मुझे दिखाई देती है वो नक़ाब सी लड़की

मैं उसके सामने बेज़ुबान सा लगता हूँ
कई सवाल लिए है वो जवाब सी लड़की

--अज्ञात

No comments:

Post a Comment