Thursday, April 15, 2010

जब मेरी हक़ीकत जा जा कर उनको सुनाई लोगों ने

जब मेरी हक़ीकत जा जा कर उनको सुनाई लोगों ने
कुछ सच भी कहा, कुछ झूठ कहा ,कुछ बात बनाई लोगों ने,

ढाए हैं हमेशा ज़ुल्म - ओ- सितम दुनिया ने मोहब्बत वालों पर
दो दिल को कभी मिलने ना दिया दीवार उठाई लोगों ने,

आँखो से ना आँसू पोंछ सके ,होंठो पे ख़ुसी देखी ना गयी
आबाद जो देखा घर मेरा तो आग लगाई लोगों ने,

तन्हाई का साथी मिल ना सका ,रुसवाई मे शामिल शहर हुआ
पहले तो मेरा दिल तोड़ दिया फिर ईद मनाई लोगों ने,

इस दौर मे जीना मुश्किल है ,ये इश्क़ कोई आसान नही
हर एक कदम पर मरने की अब रस्म चलाई लोगों ने...

--Unknown

1 comment:

  1. बढ़िया प्रस्तुति पर हार्दिक बधाई.
    ढेर सारी शुभकामनायें.

    संजय कुमार
    हरियाणा
    http://sanjaybhaskar.blogspot.com

    ReplyDelete