Sunday, January 29, 2012

न छेड़ किस्सा-ऐ-उल्फत. बड़ी लम्बी कहानी है,

न छेड़ किस्सा-ऐ-उल्फत. बड़ी लम्बी कहानी है,

मैं ज़माने से नहीं हारा. किसी की बात मानी है...!!

--अज्ञात

8 comments:

  1. बेहतरीन प्रस्‍तुति
    कल 01/02/2012 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्‍वागत है, कैसे कह दूं उसी शख्‍़स से नफ़रत है मुझे !

    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  2. बहुत बढ़िया...

    ReplyDelete
  3. वाह...
    तारीफ में शब्द नहीं....

    ReplyDelete
  4. kisi ke sawaal ke jawaab mein isse behtar tamaacha lagaata hua sher aur kya ho sakta hai..
    mazaa aa gaya ekdum :)

    ReplyDelete